24 सितंबर 2013

"लईम " किसे कहते हैं?

भांजा: मामूजान "लईम " किसे कहते हैं?
मामूजान: समाज में ऐसे लोग भी होते हैं जो अपनी ज़िन्दगी दौलत कमाने में सर्फ़ कर देते हैं, हलाल और हराम जारिए का ख्याल भी नहीं करते हैं. ऐसे अफराद अपनी कमाई में से कोई हिस्सा ज़रुरत मंदों में तकसीम नहीं करते बल्कि सिर्फ अपने और अपने घर वालों पर खर्च करते हैं, ऐसे अफराद को "बखील"यानी कंजूस कहा जाता है.
और एक तबका मोआशरे में ऐसा होता है जो दौलत इकठ्ठा करता है इन्फाक नहीं करता  न  अपने और  न अपने घर वालों पर खर्च करता है  इस शख्स को "लईम"  कहते हैं, 
दौलत होते हुवे भी वोह बद हाल रहता है  और दूसरों से अपनी ज़रूरीयात की तवक़्क़ो रखता है..

कोई टिप्पणी नहीं: