02 सितंबर 2012

शहेंशाह हुसैन ज़ाएर

यह अलबम का कबर 2011 की ज्यारात का है 


कोई टिप्पणी नहीं: