14 अगस्त 2012

मैं क़ब्र की तारीकी और लहेद की तंगी के लिए रो रहा हूँ।

दुआ "अबू हम्ज़ा सोमाली" का एक दिल दहला देने वाला टुकड़ा 
To Enlarge Click Image 

कोई टिप्पणी नहीं: