05 जून 2012

13 रजब के मौके पर सादिक हसन रिज़वी का ताज़ा कसीदा My Karari के लिए


वेलादत  की  खबर  हैदर  की  पहुंची  दो  जहाँ  तक  है ,
गिरे  काबे  के  बुत  डर  कर  हदीसों  में  बयां  तक  है , 
है  काबा  मुन्तजिर  बिन्ते असद  के  पाक  कदमों  का , 
अली  के  वास्ते  जाये वेलादत  का  मकाँ  तक  है , 
बनेगा  फ़ातेमा  बिन्ते  असद  का  ज़चाखाना  यह , 
के  इस्तेकबाल   में  दीवारे काबा  शादमा  तक  है , 
अज़ल  का  नूर  दुनिया  में  हुआ  है  आज  जलवागर , 
सजी  बज्मे  वेलाये मुर्तजा  राहे जेना  तक  है , 
करेंगे  मीसमे  तम्मार  की  मानिंद  मिदहत  हम ,
अली  का  सच्चा  आशिक  दहर  में  पीरो जवाँ  तक  है ,
मुनाफ़िक़  जानवर  से  भी  गया  गुज़रा  न  हो  क्यों  कर , 
अकीदत  दहर  में  रखता  अली  से  बे-ज़ुबां  तक  है , 
बरहना  देख  कर  दुश्मन  की  जाँ  भी  बख्श  दी  हंसकर , 
अली  बुजदिल  अदू  के  इस  अमल  पर  मेहरबाँ  तक  है , 
अली  के  नाम  पर  सर  धुनते  हैं  अर्शी  फरिश्ते  तक , 
हुकूमत  Murtaza की  यह  ज़मीन  क्या  आसमाँ  तक  है ,
सुनाऊंगा   कसीदे  मर  के  मरकद  में  फरिश्तों  को , 
अली  की  मद हा     का  शैदा  गिरोहे -कुद्सियाँ  तक  है , 
अकीदे  की  न  पूछो  इन्तेहा  बीमार  सादिक  से , 
अली  के  नाम  से  उल्फत  तो  क़ल्बे नातवां  तक  है .