06 दिसंबर 2011

बड्दन भाई के घर पर सालाना मजलिस


शाम चार बजे नजीर अब्बास उर्फ़ बड्दन के घर पर नौ मुहर्रम को हर साल की तरह इस साल भी एक मजलिस बरपा हुई.
केसन ने सोज्खानी की, हुसैन भाई ने मजलिस पढ़ी जिस का उन्वान था सलवात की फजीलत. मजलिस के बाद नाज़िर हुसैन ने नौहा पढ़ा.

केसन सोज़ पढ़ते हुए