26 जून 2010

मीलादे मौला अली मुबारक

१३ रजब के मुबारक मौके पर आप लोगों की खिदमत में हम  तब्रीक पेश करते हैं.
पैग़म्बरे इस्लाम की हदीस है की "अली हक के साथ हैं और हक अली के साथ है". अगर हम यह दावा करते हैं की हम अली के साथ हैं तो हम को हक का साथ देना होगा चाहे हमें जो भी कीमत चुकानी पड़े वरना हमारा दावा झूठा और खोखला होगा. अली का चाहनेवाला कभी बातिल का साथ नहीं दे सकता. 
इस मोक़द्दास मौके पर हम ऋषि बनारसी (सय्यद अली अब्बास ) की कता पेश कर रहे हैं जिसे कल शाम जैनाबिया इमाम बाड़े में रिकाड किया गया.

कोई टिप्पणी नहीं: